Somnath Jyotirlinga सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

अनुक्रमणिका

Somnath Jyotirlinga

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग: अद्भुत धार्मिक महत्त्व और पौराणिक कथाएँ Somnath Jyotirlinga In Hindi

The Divine Glow of Somnath: A Heartfelt Journey

आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार,

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, भारतीय धार्मिकता का एक महत्त्वपूर्ण धार्मिक स्थल है |

जो गुजरात के प्रसिद्ध पटन समुद्र किनारे स्थित है। 12 ज्योतिर्लिंग में सोमनाथ यह पहला ज्योतिर्लिंग कहलाता है |

तीर्थ स्थलों में से एक , सोमनाथ ज्योतिर्लिंग महत्त्वपूर्ण स्थान है | जो शिव पूजा में बहुत महत्त्वपूर्ण है। इस लेख में, हम सोमनाथ ज्योतिर्लिंग के महत्त्व, इतिहास और पौराणिक कथाओं के बारे में जानेंगे।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का महत्त्व Importance Of Somnath Jyotirlinga In Hindi

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का महत्त्व भारतीय धार्मिक साहित्य और पौराणिक कथाओं में विशेष रूप से उच्च है।

इसे महादेव का एक रूप माना जाता है और यह ज्योतिर्लिंग शिव के प्रतीक के रूप में पूजा जाता है।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का नाम “सोम” और “नाथ” से मिलकर बना है, जिसका अर्थ होता है “चंद्रमा के भगवान”।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का इतिहास History Of Somnath Jyotirlinga

ज्योतिर्लिंग सोमनाथ का इतिहास अत्यंत प्राचीन है और इसका उल्लेख वेदों, पुराणों, और महाभारत में मिलता है।

इस स्थल की महत्त्वपूर्ण कथाएँ “प्रभास खण्ड काव्य” और “स्कंद पुराण” में मिलती हैं।

एक प्रमुख कथा के अनुसार, सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का निर्माण चंद्रगुप्त मौर्य द्वारा किया गया था |

और इसका प्रतिष्ठापन भगवान श्रीकृष्ण ने किया था।

धार्मिक पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह स्थल एक प्रतिष्ठित तपस्या स्थल भी था |

जहां ऋषि विवस्वान ने भगवान शिव की पूजा की थी।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग की पौराणिक कथाएँ Somnath Jyotirlinga Pauranik Katha

भगवान शिव और चंद्रमा का कथा Story Of Lord Shiv And Chandra Dev

एक प्रमुख कथा के अनुसार, चंद्रमा ने अपनी अहंकार में भगवान शिव को अपमानित किया था, जिसके परिणामस्वरूप उसके शरीर पर काले दाग पड़ गए। चंद्रमा ने उपमा देने के बाद भगवान शिव से क्षमा प्राप्त की और उनके काले दाग हट गए। इस कारण सोमनाथ ज्योतिर्लिंग को “चंद्रमौलीश्वर” भी कहते हैं, जिसका अर्थ होता है “चंद्रमा के भगवान”।

भगवान कृष्ण और सोमनाथ Bhagwan Krishn Aur Somnath

इस कथा के अनुसार, भगवान कृष्ण ने सोमनाथ में आकर ज्योतिर्लिंग का प्रतिष्ठापन किया था।

उन्होंने यहां पूजा की और इस जगह को धार्मिकता का महत्त्वपूर्ण केंद्र बनाया।

सोमनाथ मंदिर About Somnath Temple In Hindi

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का सबसे प्रमुख स्थल है सोमनाथ मंदिर, जो इस ज्योतिर्लिंग के लिए बनाया गया है।

यह मंदिर गुजरात के प्रसिद्ध पर्यटन समुद्र किनारे पर स्थित है | और इसका निर्माण राजा महादेव ने कराया था।

मंदिर का वास्तुकला और संरचना अद्वितीय है और इसे भगवान शिव के प्रतीक के रूप में पूजा जाता है।

Somnath Jyotirlinga

सोमनाथ में मौजूद मंदिर Lords Temple In Somnath

सोमनाथ मंदिर Somnath Temple

हिंदुओं के लिए एक अत्यंत पूजनीय धार्मिक स्थल, सोमनाथ मंदिर भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। ज्योतिर्लिंग को फूलों, चांदी और सोने के आभूषणों से सजाया गया है और दूर-दूर से लोग इसकी पूजा करने आते हैं। यह भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से पहला है।

भालका तीर्थ Bhalika Teerth

भालका तीर्थ एक प्रसिद्ध हिंदू तीर्थस्थल है जिसके बारे में माना जाता है कि यहीं पर भगवान कृष्ण को एक शिकारी के तीर से गोली लगी थी। पवित्र ग्रंथों के अनुसार, भगवान कृष्ण की मृत्यु द्वापर युग के अंत और कलियुग की शुरुआत का प्रतीक है। तीर्थ में भगवान कृष्ण को समर्पित एक मंदिर है और इसे महाप्रभुजी की बैठक कहा जाता है।

लक्ष्मी नारायण मंदिर Laxmi Narayan Temple

सोमनाथ तट पर स्थित, पीठासीन देवता, भगवान लक्ष्मीनारायण भगवान विष्णु के अवतार हैं। आधुनिक वास्तुशिल्प डिजाइन को दर्शाता यह मंदिर अपने 18 स्तंभों पर की गई नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है, जिन पर भगवद्गीता के रूप में कृष्ण का पवित्र संदेश है।

त्रिवेणी संगम मंदिर Triveni Sangam Temple

तीन नदियों हिरन, कपिला और सरस्वती का संगम यह वह बिंदु है जहाँ नदियाँ शक्तिशाली अरब सागर से मिलती हैं। त्रिवेणी संगम को हिंदुओं के लिए एक बहुत ही पवित्र मोक्ष तीर्थ माना जाता है।

सूरज मंदिर Suraj Temple Sun Temple

सूरज मंदिर भी त्रिवेणी घाट के पास स्थित है और सूर्य भगवान को समर्पित कुछ मंदिरों में से एक है।

मंदिर में हाथियों, शेरों और विभिन्न पक्षियों और जानवरों के चित्रण हैं।

परशुराम मंदिर Parshuram Temple

यह मंदिर पवित्र त्रिवेणी नदी के तट पर स्थित है, ऐसा माना जाता है कि भगवान परशुराम ने यहीं तपस्या की थी।

भगवान परशुराम को समर्पित दुर्लभ मंदिरों में से एक यह मंदिर आगंतुकों को सुंदर परिवेश और सुरम्य परिदृश्य प्रदान करता है।

देहोत्सर्ग तीर्थ Dehotsarg Teerth

देहोत्सर्ग तीर्थ हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल है क्योंकि यहीं पर भगवान कृष्ण ने जरा के तीर से घायल होने के बाद अंतिम सांस ली थी। यह स्थान भगवान कृष्ण के पैरों के निशान से चिह्नित है।

यह भी माना जाता है कि कृष्ण के भाई बलराम भी पास में बलराम जी की गुफा में रेंगते हुए नाग के रूप में उनके साथ थे।

शशिभूषण महादेव और भीदभंजन गणपतिजी मंदिर Shashibhushan Mahadev And Bhidbhanjan Ganapatiji Temple

शहर से लगभग 4 किमी दूर राजमार्ग पर सुंदर समुद्र तट के किनारे स्थित है।

भिड़भंजन गणेश जी का रक्षक रूप है और यहां शिव जी के साथ उनकी पूजा की जाती है।

कामनाथ महादेव मंदिर Kaamnath Mahadev Temple

लगभग 200 साल पहले एक राजा द्वारा बनवाया गया यह मंदिर अब सोमनाथ के सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है। राजा का मानना था कि आसपास के तालाब में डुबकी लगाने से मनुष्य की कोई भी बीमारी ठीक हो सकती है।

गीता मंदिर Gita Temple

त्रिवेणी घाट पर निर्मित, जहां तीन नदियाँ समुद्र से मिलती हैं, गीता मंदिर 70 के दशक में बिड़ला द्वारा निर्मित भगवान कृष्ण को समर्पित एक सुंदर संरचना है। खूबसूरती से कैद की गई सफेद संगमरमर की संरचना में दीवारों पर गीता के भजनों का चित्रण जटिल रूप से उकेरा गया है।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर का समय Shree Somnath Jyotirlinga Temple Hours

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर का समय सुबह 6:00 बजे से रात 10:00 बजे तक होता है।

दिन में 3 बार आती होती है सुबह 7:00 बजे दोपहर 12:00 बजे और शाम को 7:00 बजे।

लाइट और साउंड शो ‘जय सोमनाथ’ का समय शाम को 8:00 से 9:00 बजे तक होता है।

सोमनाथ यात्रा Somnath Mahadev Temple Yatra

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग की यात्रा भारतीय धार्मिकता के अनुसार एक महत्त्वपूर्ण और पवित्र यात्रा मानी जाती है।

हजारों भक्तगण हर साल इस स्थल पर आकर शिव की पूजा करते हैं और अपने आत्मा को शुद्ध करते हैं।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग का दर्शन करने के बाद भक्त अपने जीवन में शांति और सुख की प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं।

संक्षिप्त में Conclusion

  • सोमनाथ ज्योतिर्लिंग भारतीय संस्कृति का महत्त्वपूर्ण हिस्सा है | यह एक पौराणिक कथा का महत्त्वपूर्ण प्रतीक है।
  • इस स्थल की यात्रा भक्तों के लिए आध्यात्मिक और मानसिक शांति का एक माध्यम होती है, और यह धार्मिकता की अद्भुतता और विविधता का प्रतीक है।
  • सोमनाथ ज्योतिर्लिंग के पास गुजरात की सुंदर समुंदर किनारा और शिव की प्रतिमा होने के कारण यह स्थल एक अद्वितीय धार्मिक अनुभव का स्रोत है।

More Blogs Of Bhaktiwel

2 thoughts on “Somnath Jyotirlinga सोमनाथ ज्योतिर्लिंग”

Leave a Comment

Shree Ram Ayodhya Ram Temple Panchmukhi Hanuman & Dandiwale Temple Lord Krishna’s 16,108 Wives and 80 Sons Shani Dev ABOUT OM PANCHAKASHARI MANTRA